Sunday, 25 October 2020

बिहार वोटर झूठे वादे और खोखले दावे करने वाले राजनीतिज्ञ से सोशल डिस्टेंस की तहत बनाएं सामान्य दूरी: परमजीत सिंह

By 121 News
Chandigarh Oct. 25, 2020:-बिहार चुनाव में झूठ के अंबार लगे हैं। हमारे प्रधान सेवक और चौकीदार झूठ का एक और स्तंभ गाड़ आए हैं या यूं कहें कि चुनावी जुमला उछाला है। यह शब्द कहते हुए कांग्रेस के सीनियर लीडर और आर्ट एंड कल्चर तथा स्पोर्ट्स सेल के प्रधान परमजीत सिंह ने जमकर लताड़ा। उन्होंने कहा कि देश के प्रधानमंत्री पद पर बैठे व्यक्ति को पद की गरिमा का तो ध्यान रखना चाहिए और ऐसा वो इसलिए कह रहे है कि पिछले चुनावों में बिहार की जनता को केंद्र सरकार ने 70000 करोड़ का विशेष पैकेज देने का चुनावी जुमला दिया था, जो आज भी हवा मे है। और इस बार भी छगन के पैसे जगन को देकर दोनों को "मगन" रहने की नीति पर चलते हुए राजनैतिक रैलियां कर रहे हैं। इसको अब समझिए कि जगन, छगन मगन क्या है ? दरअसल एक बड़ा ही कर्णप्रिय नारा प्रधान सेवक ने उछाला है कि सरकार बिहार के लोगों को एक ऐसी करोना वैक्सीन (जो अब तक बनी नही) मुफ्त उपलब्ध करवाएगी। अब समझने की बात यह है कि आज तलक भी राज्य सरकारों को केंद्र सरकार मुफ्त में ही वैक्सीन उपलब्ध कराती आई है तो अब क्या नया और अनोखा होने वाला है, जो देश के प्रधान सेवक वैक्सीन मामले में करने वाले है यानी 'छगन' केंद्र सरकार 'जगन' राज्य सरकार तो जनता 'मगन' रहे। और इनकी कारगुज़ारियों पर अपनी कोई टीका टिप्पणी ना करें। अगर मुहावरों के संदर्भ को समझे तो "हींग लगे न फिटकरी रंग भी चोखा" इसका जीवंत उदाहरण प्रधान सेवक जी ने दिया और यकीनी तौर पर 15 लाख रुपए हर व्यक्ति को, बीस लाख करोड़ का आर्थिक पैकेज, सस्ता पेट्रोल, सस्ता डीजल, सस्ती दालें, सस्ती सब्जियां, सस्ती गैस, सस्ता परिवहन साधन, करोड़ों नौकरियां, स्किल वर्करों को कामकाज, हर एक को घर जैसे वादे, चुनावी जुमले साबित हुए। बिहार के चुनावों में यह वादे और दावे भी हवा भरे गुब्बारे की तरह ही फिसड्डी साबित होंगे । परमजीत सिंह ने  बिहार की जनता तथा हर वोटर से यह अनुरोध किया है कि झूठे वादे और खोखले दावे करने वाले राजनीतिज्ञ से सोशल डिस्टेंस की तहत सामान्य दूरी बनाए रखें, तथा धार्मिक सामाजिक और नैतिक उन्माद फैलाने वाले लोगों को वोट ना देकर, उन लोगों को चुने जो दुख,  दर्द और तकलीफ में उनके साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़े रहे और उनकी यथासंभव मदद कर सके। और बिहार को एक आर्दश राज्य बना कर, आने वाली पीढ़ियों बेहतर भविष्य प्रदान कर सकें।

No comments:

Post a comment