Wednesday, 22 January 2020

टेक्नोलॉजी के माध्यम से होगा यूथ और वूमेन एम्पावरमेंट

By 121 News

Chandigarh 22nd Jan, 2020:- जयपुर के जी डी बड़ाया ऑडिटोरियम, संस्कृति कॉलेज मानसरोवर  में २५ जनवरी को  जाने माने टेक्नोलॉजी एक्सपर्ट, एजुकेशनिस्ट और मोटिवेशनल स्पीकर विमल  डागा की अध्यक्षता में युवा महोत्सव का आयोजन किया जाएगा जिसमें बड़ी संख्या में जयपुर के युवा बड़ी संख्या में हिस्सा लेंगे। आईआईईसी  द्वारा शुरू की गयी इस नोबेल पहल के द्वारा  छात्रों मे उद्यमिता कौशल को विकसित करते हुए "मेकिंग इंडिया, फ्यूचर रेडी" के अपने दृष्टिकोण को आगे बढ़ाने की दिशा में साल 2020 का रोडमैप लांच किया जाएगा।

गत वर्ष जहां  महिलाओं की सुरक्षा, ऑटिज़्म से पीड़ित बच्चें, भूख और गरीबी  से जंग, दृष्टिहीन के जीवनयापन के लिए सहयता, चोरी के किस्से, खेती-बाड़ी की सुविधा जैसे मुद्दों को टेक्नोलॉजी के माध्यम से रिसोलव करने के प्रति जज़्बा का आयोजन किया गया था और इसमें इंजीनियरिंग  छात्रों, विभिन्न संगठनों और स्टार्ट-अप के प्रतिनिधियों के नेतृत्व में 75+ से अधिक स्टार्टअप की मेजबानी की गयी थी. वही इस साल बेरोज़गारी के समाधान , रोज़गार के अवसरों और चुनौतियों ,उद्यमिता को बढ़ावा, सक्सेसफुल इंटरप्रेन्योर बनने के गुर, शिक्षा की आपूर्ति, वीमेन एपोवेर्मेंट, स्वरोज़गार की दिशा में महिलाओ की भागीदारी और  पर्यावरण स्थिरता से स्वस्थ बदलाव और अन्य कई मुख्य मुद्दों  को संबोधित किया जाएगा जो आज समाज को परेशान कर रहे हैं। इस इवेंट में 2020  का रोडमैप  लांच किया जाएगा और युवाओं की भागीदारी से दिशा तय की जाएगी।  विमल डागा के साथ जयपुर के युवा  पाथ  ब्रेकिंग टेक्नोलॉजी का अनावरण कंरेंगे।

युवाओं  विशेष रूप से इंजीनियरिंग के वो  छात्र जिन्हे  औसत या औसत से नीचे का बोल कर अस्वीकृत कर दिया जाता है और एक नकारात्मक प्रतिक्रया दी जाती है ,को  आईआईईसी एम्पावरड और स्किल्ड करते हुए उचित मार्गदर्शन और प्रेरना देता है. विमल डागा , मशहूर टेक्नोक्रैट, एडुकेशनिस्ट और  संस्थापक आईआईइसी , के अनुसार एक सशक्त युवाओं वाले राष्ट्र के लिए असीम संभावनाएं हैं और उन्हें सही ज्ञान, कौशल और प्रशिक्षण के साथ शिक्षित करने की संभावनाएं हैं। सोसाइटअल  एम्पॉवरमेन्ट के लिए टेक्नोलॉजी के माध्यम से हम विकास की और अग्रसर हो सकते हैं  और जज़्बा से हम डिजिटल रेवोलुशन के द्वारा  सामाजिक परिवर्तन के लिए रास्ता तैयार करेंगे। इसके साथ साथ  हम डिजिटल क्रांति लाने के लिए पूरी तरह तैयार हैं जो युवा सशक्टीकरण  करने की दिशा में काम करेगी और सेल्फ एम्प्लॉयमेंट और उद्यमिता के लिए भी एक अवसर प्रदान करेगी  इनोवेशन जज़्बा के जरिये हम इंजीनियरिंग छात्रों के बीच सही समय पर एंट्रेप्रिन्योरशिप को बढ़ावा देंगे।इस पहल से जल्द ही भारतीय युवा अपनी कंपनियों के संस्थापक होने का सपना देखेंगे ना की किसी कंपनी में नौकरी पाने का। इससे देश के युवाओं को बेरोजगारी की समस्या से भी छुटकारा मिलेगा

इसके साथ ही  जज़्बा की कन्विनर , प्रीती डागा  ने कहा कि  कोई भी इंजीनियरिंग स्टूडेंट रचनाकार हो सकता है चाहे वो बिलो एवरेज होहम उन्ही स्टूडेंटस में  स्टार्टअप और अपने आप को लीडर देखने का सपना और उम्मीद  डे रहे हैं और उनकी रचनात्मकता सामजिक सशक्तिकरण को भी बढ़ावा दे रही है, वो ऐसी तकनीक ले कर रहे हैं जो डिजिटल जगत में क्रान्ति ले आएगी और समाज में चलित के समस्याओं और परेशानियों को आसानी से सुलझा देगी   

No comments:

Post a comment