Monday, 28 September 2020

सेंटौर फार्मास्युटिकल्स ने डायबिटिक फुट अल्सर के उपचार के लिये एक न्यू केमिकल एंटाइटी ‘वॉक्सहील(R)’ लॉन्च की

By 121 News

Chandigarh Sept.28, 2020:- सेंटौर फार्मास्युटिकल्स ने दुनिया में पहली बार एक न्यू केमिकल एंटाइटी (एनसीई)- वॉक्सहील® के लॉन्च की घोषणा की है। एक्शन के अपने ड्यूअल मेकैनिज्म के साथ वॉक्सहील डायबिटिक फुट अल्सर्स के इलाज में एक अनूठा उत्पाद है। यह दुनियाभर में ऐसे लाखों डायबीटिक्स को बचाएगा, जिन्हें फुट एम्प्युटैशन से गुजरना होता है।

डब्ल्यूएचओ का अनुमान है कि अगले 10 साल में भारत में डायबिटीज के 10 करोड़ मरीज होंगे। डायबिटीज से उत्पन्न होने वाली अन्य समस्याओं के बीच भारत में डायबिटिक फुट अल्सर सबसे आम समस्या है। डायबिटिक फूट अल्सर्स ठीक नहीं होते हैं, वे रोगी के जीवन की गुणवत्ता को खराब करते हैं और वेट गैंगरीन, सेलुलाइटिस, फोड़ा और नेक्रोटाइजिंग फैसिटिस जैसी समस्याए भी उत्पन्न कर सकते हैं, जिनके कारण पूरा या आंशिक फूट एम्प्युटैशन होता है। डाटा बताता है कि डायबिटीज के 25 प्रतिशत रोगियों को जीवन में कभी न कभी डायबिटिक फुट अल्सर होगा। पैर में तीव्र संक्रमण के कारण अस्पताल में भर्ती होने वाले 5 में से 1 डायबिटिक्स को फूट एम्प्युटैशन होता है, जिससे परिवार की आजीविका प्रभावित होती है।

इस अवसर पर सेंटौर फार्मास्युटिकल्स के चेयरमैन एवं एमडी एस. डी. सावंत ने कहा, कि सेंटौर फार्मास्युटिकल्स में हम भारत में फुट एम्प्युटैशन के बढ़ते मामलों से बहुत चिंतित हैं और उसे रोकने के लिये एक दवा खोजना चाहते थे। पंद्रह साल पहले हमने साइटोटूल्स एजी, जर्मनी के साथ गठबंधन किया था, जिनके पास डायबिटिक फुट अल्सर के उपचार के लिये यह आशाजनक मॉलीक्युल था। हम भारत में डायबिटिक फुट अल्सर के रोगियों के लिये आशा की किरण लाकर प्रसन्न हैं।'

वैश्विक पेटेन्ट वाला उत्पाद वॉक्सहील® टॉपिकल सॉल्यूशन डायबिटिक फुट अल्सर्स के उपचार में प्रभावी है। वॉक्सहील® में एनसीई, डाइपेराक्जोक्लोरिक एसिड होता है, जिसे डीपीओसीएल भी कहा जाता है। वॉक्सहील® के पास एक्शन का ड्यूअल मेकैनिज्म है, अर्थात् ग्राम पॉजिटिव और ग्राम निगेटिव बैक्टीरिया के विरूद्ध इसका फंक्शनल एंटीबैक्टीरियल एक्शन और यह फाइब्रोब्लास्ट कोशिकाओं की वृद्धि को बढ़ावा भी देता है, ताकि घाव पूरी तरह भर जाए।

भारत के 15 से ज्यादा क्लिनिकल ट्रायल सेंटर्स में वॉक्सहील® पर रैंडमाइज्ड क्लिनिकल ट्रायल हुए थे, जिनमें पाया गया कि ठीक न होने वाले डायबिटिक फुट अल्सर के 90 प्रतिशत से ज्यादा रोगियों में अल्सर का आकार घटा और 75 प्रतिशत रोगी सुरक्षा की समस्या के बिना 6-8 सप्ताह में पूरी तरह ठीक हो गये। ट्रायल का डाटा और परिणाम इंडियन रेग्युलेटरी अथॉरिटी को सौंपा गया और वॉक्सहील® के लिये सेंटौर फार्मास्युटिकल्स को उत्पादन और मार्केटिंग का अनुमोदन मिला।

वॉक्सहील® के को-इनोवेटर और साइटोटूल्स एजी, जर्मनी के सीईओ डॉ. मार्क-एंड्री फ्रेबर्ग ने कहा, कि 'वॉक्सहील® भारत में फेज 3 क्लिनिकल ट्रायल्स पूरे कर चुका है और डायबिटिक फुट अल्सर वाले रोगियों में घाव को तेजी से भरने की योग्यता दिखा चुका है, जिसका उपचार बहुत कठिन है।'

वॉक्सहील® के को-इनोवेटर और साइटोटूल्स एजी, जर्मनी के चीफ साइंटिफिक ऑफिसर डॉ. डिर्क कैसर ने कहा, कि वॉक्सहील® भारत और जर्मनी के गठबंधन से जन्मी एक अनूठी दवा है। यह डायबिटिक फुट अल्सर के उपचार का तरीका बदल देगी और एम्प्युटैशन की रोकथाम में मदद करेगी।'' डॉ. कैसर ने यह भी कहा कि फेज 3 क्लिनिकल ट्रायल यूरोप में चल रहे थे और फेज 2 क्लिनिकल ट्रायल के परिणाम भारत के क्लिनिकल ट्रायल्स जैसे थे।

No comments:

Post a comment